अवलोकन

एसजेवीएन का अवलोकन एवं अनुभव

एसजेवीएन एक सुस्थापित आईएसओः9001 एवं आईएसओः14001 सत्यापित कंपनी है I यह एक बहुविधा संगठन है और इसने जलविद्युत परियोजनाओं की प्लानिंग और निष्पादनार्थ पर्याप्त अनुभव अर्जित कर लिया है I समय बीतने के साथ जैसे-जैसे एसजेवीएन द्वारा अपनी विद्युत परियोजनाओं के निष्पादन में हासिल की गई सफलताओं की खबर फैलती गई इसे उनकी टेक्नीकल विशेषज्ञता ओर गहन अनुभव के लिए भारत और विदेशों की कई कंपनियों से अनुरोध मिलना शुरू हो गए I

एसजेवीएन के पास तकनीकी रूप से अहर्ताप्राप्त और प्रबंधकीय जनशक्ति से लैस विशाल स्रोत है जो वैश्विक मानकों पर खरा उतरते हुए ग्राहकों को समयबद्ध, गुणवत्तायुक्त और किफायती समाधान उपलब्ध करवा सकनेके लिए सर्वोत्तम अवसंरचना और ज्ञान प्रबंधन सुविधाओं से सुसमर्थित है I

एसजेवीएन ने परियोजनाओं के निर्माण तथा प्रचालन एवं अनुरक्षण के दौरान कई नवोन्वेलषी कार्यकिए हैं जिनमें से कुछ निम्नवत हैं:

  • बांध एवं इनटेक क्षेत्र में पहाड़ी ढलानों के स्थानयित्व हेतु 200 टन क्षमता की केबल एंकर्सI

  • प्रतिकूल सतहीहालातों से निपटने के लिए ड्रेस प्रविधि (ड्रेनेज रिइनफोर्समेंट-एक्स्केवेशन-सपोर्ट सोल्यूशन) I

  • एनजेएचपीएस तथा आरएचपीएस का समानुक्रमिक प्रचालन I

  • • एनजेएचपीएस हार्ड कोटिंग वर्कशॉप में टरबाईनों के जल में डूबे रहने वाले कलपूर्जों और टरबाईन के अन्य घटकों जैसे रिंग, गाईड एवं बुश इत्यादि की स्वदेशी एचवीओएफ तकनीक से टंगस्टन कार्बाईड पाऊडर के जरिए हार्ड कोटिंग करना I

कारोबारी एवं वित्तीय उन्नतिh

वित्तीय वर्षों 2014-15, 2015-16,2016-17एवं2017-18 के दौरान क्रमशः 56 लाख रुपए, 268 लाख रुपए,140 लाख रुपए तथा117 लाख रुपए के भुगतान प्राप्त हुए I चालू वित्तीय वर्ष 2018-19 के दौरानदिसम्बर,2018 तकरुपये150.24 लाख के भुगतान प्राप्त हुएI

एसजेवीएन परामर्शी विंग की विशेषज्ञता

एसजेवीएन की परामर्शी विंग विद्युत संयंत्रों की विभिन्न अवस्थाओं में घरेलू एवं अंतर्राष्ट्रीय ग्राहकों के लिए परामर्शी कार्य करती है I एसजेवीएन विद्युत परियोजनाओं की इंजीनियरिंग, निर्माण, ओ.एंड एम., आर.एंड एम. तथा प्रबंधन में एक जानी मानी कंपनी के रूप में उभरा है और इस प्रकार इसे परामर्शी कार्यों के लिए प्राथमिकता दी जाती है I

एसजेवीएन में हम अवसंरचना क्षेत्र के कारोबार में परामर्शी सेवाएं देते हैं जैसे :as:-

  • जलविद्युत परियोजनाएं

  • राजमार्ग सुरंगों एवं रेलवे सुरंगों, इत्याादि जैसी अवसंरचना परियोजनाएं

उपर्युक्त क्षेत्रों में समूचे प्रकार की सेवाएं उपलब्ध हैं I ये निम्नवत हैः

  • नदी बेसिन अध्ययनजिसमें साईटों की पहचान, साईटों का चयन,पूर्व संभाव्यता अध्ययवन, हाईड्रोलॉजीकल एवं हाईड्रो मिटीयरोलॉजीकल सर्वेक्षण एवं आकलन,एकीकृत बाढ़ संतुलन अध्ययन,जल उपलब्धता आकलन, डायवर्जन बाढ़ अनुमान, डिजाईन बाढ़ अनुमान, विद्युत संभाव्यता अध्ययन तथा विद्युत ईष्टतमीकरण अध्य़यन शामिल हैंI

  • विस्तृत सर्वेक्षण एवं अन्वेषण जिसमें सर्वेक्षण संकार्य-विस्तृत स्थलाकृति‍क सर्वेक्षण एवं मैपिंग, मिलान स्थापित करने के लिए सटीक सर्वेक्षण, लगभग 15 कि.मी. क्षेत्र में सर्वेक्षण नियंत्रण तथा गुणवत्ता सर्वेक्षण शामिल हैI

  • भू-वैज्ञानिक एवं भू-तकनीकी अन्वेषण जिसमें सतही भू-वैज्ञानिक एवं भू-तकनीकी मैपिंग अन्वे्षी ड्रिलिंग के जरिए भू-तकनीकी मूल्यांकन, शैल समूहों का इंजीनियरिंग वर्गीकरण, निर्माण सामग्री सर्वेक्षण, जलविद्युत परियोजनास्थलोका भू-तकनीकी यंत्रीकरण एवं भू-तकनीकी मूल्यांकन शामिल है I.

  • डिजाईन एवं इंजीनियरिंग जिसमें परियोजना मानचित्र, परियोजना घटकों के संबंद्ध में ईष्टगत्तनमीकरण अध्ययन, सिविल, इलेक्ट्रो-मैकेनिकल तथा हाईड्रो मैकेनिकल संकार्यों (गेट एवं होईस्टग) के लिए डिजाईन एवं परियोजना रिपोर्ट ड्राईंगे, हाईड्रोलिक ट्रांजेंट अध्ययन, सिविल इंजीनियरिंग संकार्यों,इलेक्ट्रो-मैकेनिकल तथा हाईड्रो-मैकेनिकल उपस्करों (गेट एवं होईस्टे) के लिए मात्रात्मयक बिल सहित विस्तृत इंजीनियरिंग एवं विनिर्दिष्टताएं, विभिन्न सिविल संरचनाओं (बांध, बैरेज, सुरंगे, विद्युतगृह तथा अन्य भूमिगत संरचनाएं)के लिएनवीनतमसॉफ्टवेयर जैसे स्टैड प्रो,एनासिस, फेज़-2 इत्यादि काप्रयोग करके विस्तृत इंजीनियरिंग डिजाईन बनाना शामिल है I

  • जलाश्य अध्ययन जिसमें जलाश्यत अवसादन अध्ययन, जलाश्य् प्रचालन अध्ययन, डैम ब्रेक अध्ययन शामिल हैI

  • लागत इंजीनियरिंग जिसमें लागत अनुमान, दर विश्लेंषण, लागत का आर्थिक मूल्यांकन, टैरिफ अध्ययन, लागत डाटा विश्लेषण, निविदा पूर्व अनुमान और मूल्यांकन शामिल है I

  • परियोजना रिपोर्टें –मंजूरियां निवेश निर्णय जिसमें संभाव्यता रिपोर्ट की तैयारी, विस्तृत परियोजना रिपोर्टों (डीपीआर) की तैयारी तथा अन्य एजेंसियों द्वारा पहले से तैयार डीपीआर का विशेषज्ञ मूल्यांकन शामिल है I

  • सिविल/मैकेनिकल/विद्युत संकार्यार्थ टेंडरिंग जिसमें निविदा दस्तावेजों की तैयारी, बोलीदाताओं की पूर्व अर्हता, बोलियों हेतु आमंत्रण एवं मूल्यांकन, संविदात्मिक मुद्दों का अवार्ड के बाद संविदा प्रबंधन एवं निपटान शामिल है I

  • संविदा प्रबंधन एवं प्रापण संविदा प्रबंधन एवं प्रापण में मदद जिसमें प्रापणार्थ टेक्नो‍कमर्शियल परामर्शी सेवाएं शामिल हैंI

  • उपकरण प्लानिंग एवं प्रबंधन जिसमें निर्माण उपकरण प्लांनिंग शामिल है I

  • गुणवत्ता/ नियंत्रण एवं आश्वासनजिसमें आदर्श गुणवत्ता आश्वासन योजनाओं (क्यू एपी) का विकास, सिविल/मैकेनिकल/वैद्युत संकार्यार्थ क्यूवएपी की मंजूरी तथा उपकरणों का प्रेषणपूर्व निरीक्षणशामिल है I

  • परीक्षण एवं कमीशनिंग जिसमें परीक्षण एवं कमीशनिंग विधि एवं साईट स्वीरकार्यता परीक्षणों के फार्मेट एवं साक्ष्यकरण शामिल हैंI

  • प्रचालन एवं अनुरक्षण जिसमें दीर्घ अवधिओएंडएम सहायता,प्रचालनात्म्क प्रविधि का विकास एवं विद्युत संयंत्रार्थ फार्मेट, सिविल संरचनाएं तथा हाईड्रो-मैकेनिकल उपकरण, समस्या समाधान, स्पेयरों का इनवेंटरी नियंत्रण तथा विद्युत स्टेशनों का तकनीकी निरीक्षण शामिल है I

  • जलविद्युत स्टेशनों का पुनर्ऊद्धार, नवीकरण एवं उच्चांनकन जिसमें विद्युत उत्पादक संयंत्र, इलेक्ट्रो-मैकेनिकल तथा हाईड्रो मैकेनिकल उपकरणों का मूल्यांकन, जलविद्युत स्टेशन अध्य्यनों का नवीकरण तथा उच्चांकन, टरबाईन जैसे अंडरवाटर घटकों तथा वियरिंग, चीक प्लेट गाईड तथा बुश इत्यादि जैसे अन्य टरबाईन घटकों की हार्ड कोटिंग तथा परियोजना में हार्ड कोटिंग व्यवस्था की स्थापना में मदद देना इत्यादि शामिल है I

  • बांध सुरक्षा जिसमें मौजूदा बांधों की बांध सुरक्षा समीक्षा तथा आपातकालीन कार्यवाही योजना शामिल है I

Go to Navigation